सपाटबयानी

मेरे विचार - प्रतिक्रिया

182 Posts

465 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 11587 postid : 308

भारतीय नारी: लुटेरी हैं क्या?

Posted On 14 Nov, 2012 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

महिलाओं की समानता के नारे ने देश में नारियों को भी लुटेरा ही बना दिया है! जब वे पुरुषों के सामान है तो पुरुषों द्वारा किये जाने वाले कामो को खुद ही क्यों नहीं कर सकती है? तब वे समानता की बात को क्रियान्वित कर दिखा सकती हैं!
हमारी कांग्रेस को चलाने वाली नारी को भी अब भारतीय ही मानना होगा, इसलिये ही शायद हमारे देश को लूटने वाली नारी कहने में कोई संकोच और कोई गलत नहीं कहा जा सकता है! इस नारी ने भारत को खूब लूटा और न जाने कितना और लूटेगी? अफसोस तो तब और होता है की यह नारी अपना घर अपनी कठपुतलियों द्वारा लूट कर भर रही है और खुद पाक-साफ़ बनी हुई है! इसमे मनमोहनजी,ऐ राजा, कलमाडी,राहुल, वाध्रा को शामिल किये हुए है, जो भारतीय है! अब तो इस अंदेशे से भी चौकन्ना रहना होगा की अपने बेटे और दामाद को छोड़ कहीं चुपके से फुर्र न हो जाए? खैर इससे हमारे देश की नारिया भी कुछ ऐसा न सीख जाए? या सीख कर कर रही हो तो हमें नहीं मालूम! यह तो केजरीवाल ही पता कर बता सकते है!
इसी तरह देश की पहली नारी राष्ट्रपति ने भी कम नहीं नोचा है राष्ट्रपति भवन को? क्या कभी ध्यान रखा इस भवन की गरिमा और उसकी मर्यादा का? उन्होंने तो इस भवन को और उसमे रखी महामहिम की कुर्सी को ही दागदार बना कर रख दिया है! और इस महिला ने तो जाते समय भवन का सारा सामान ही ले जाना उचित समझा! क्या न सीधी लगती थी सूरत से? आपने तो अपने बेटे को भी इशारा कर दिया की बेटे तू भी खूब लूट देश को मै जो हूँ तुझे बचाने को! बेटा भी धार्मिक किस्म का है, सो कैसे भूल सकता हैअपनी माता श्री के आदेश को? सोचा की —–
“तू जननी मै बालक तोरा, काहे न बकसे अवगुण मोरा”
हम और हमारा देश इन दो महिलाओं को क्या भूल सकेगा? वे तो विश्वास रखती है की—
“बदनाम तो होंगे, पर क्या नाम नहीं होगा?”
आने वाला समय भी इन दो महिलाओं को क्या भूल पायेगा ?,नहीं और बिल्कुल भी नहीं!

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

4 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

akraktale के द्वारा
November 16, 2012

आदरणीय             सादर, अंग्रेजों ने देश पर सौ से अधिक वर्षों तक राज किया किन्तु वह भारतीय नहीं हो सके. दुसरा यह कि आज भी यह कथन चलन में है कि महरी(किचन में काम में हाथ बंटाने वाली महिला) का ध्यान रखना कहीं चम्मच कटोरी ना चुरा ले जाए. 

    pitamberthakwani के द्वारा
    November 16, 2012

    अक्रक्ताले जी सही आकलन के लिए धन्यवाद!

pitamberthakwani के द्वारा
November 14, 2012

दीपक जी, आपकी सूझ की तारीफ़ है मैंने तो रायसीना की बात की ही नहीं! आपको शत-शत नमन! आप मेरी अन्य पोस्ट्स पर भी अपनी राय दे!

TIWARI DEEPAK के द्वारा
November 14, 2012

पीतांबर जी नमस्कार,                                वैसे दोनों ही महिलाओं के एक दूसरे की मदद से इस काम को बखूबी अंजाम दिया.,,एक ने दूसरे को रायसीना हिल्स पहुंचाया तो दूसरे ने भी रायसीना हिल्स पहुंचकर दस जनपथ के हर आदेश का बखूबी पालन किया।


topic of the week



latest from jagran